Home   >   Technology   >   Operating System Kya Hai

ऑपरेटिंग सिस्टम क्या है ? What is Operating System in hindi

ऑपरेटिंग सिस्टम , Operating System Kya Hai ,  Operating System In Hindi , what is operating system in hindi , types of operating system in hindi , ऑपरेटिंग सिस्टम क्या है ? , ऑपरेटिंग सिस्टम के प्रकार , operating system ke prakar , os ka full form , operating system kise kahate hain , operating  system ki paribhasha , operating system kya hai in hindi

दोस्तों , इस  पोस्ट  में  हम  जानेंगे  की  ऑपरेटिंग  सिस्टम  क्या  है  ? (operating system kya hai) , ऑपरेटिंग  सिस्टम  के  कार्य  और  what is operating system in hindi इत्यादि के विषय में।

दोस्तों , जब  भी  हम  कंप्यूटर  का  उपयोग  करते  हैं , तो  कंप्यूटर  को  चालू  करते  ही , जो  कुछ  भी  हमें  कंप्यूटर  की स्क्रीन पे  सबसे  पहले  दिखाई  देता  है ,  वो  ऑपरेटिंग  सिस्टम  की  मदद  ही  दिखाई  देता  है ।

अर्थात , ऑपरेटिंग  सिस्टम  कंप्यूटर  का  बेसिक  सॉफ्टवेयर  होता  है , जो  यूजर  को  एक  इंटरफेस  प्रदान  करता  है , जिसकी  मदद  से  यूजर  कंप्यूटर  को  चला  पाता  है। आइये  अब  विस्तृत रूप  में समझते  हैं  की  operating system  kya hai  in hindi , operating system ke prakar और   function of operating system in hindi  इत्यादि  विषयों को।

ऑपरेटिंग  सिस्टम  क्या  है (Operating System Kya  Hai) 

ऑपरेटिंग  सिस्टम  एक  प्रकार  का  सॉफ्टवेयर  होता  है , जो  यूजर  के  निर्देशों (इनपुट डाटा)  को  कंप्यूटर  के  समझने  योग्य  भाषा  में  बदलने  का  कार्य  करता  है ,  और  कंप्यूटर  से  प्राप्त  सूचनाओं  को  यूजर  के  समझाने  योग्य  भाषा  में  बदलता  है ।

इस  प्रकार  हम  कह  सकते  हैं  की  ऑपरेटिंग  सिस्टम  कंप्यूटर  और  यूजर  के  बिच  मध्यस्त (medium)  का  कार्य  करता  है , जिसका  उपयोग  करके  यूजर  कंप्यूटर  पे  किसी  भी  कार्य  को  कर  पाता  है ।

ऑपरेटिंग  सिस्टम  एक  सिस्टम  सॉफ्टवेयर  होता  है , जिसका  उद्देश्य  कंप्यूटर  के  उपयोग  को  यूजर  के  लिए  सुविधाजनक  बनाना  होता  है।

ऑपरेटिंग  सिस्टम (Operating  System)  को  संछिप्त रूप (Short  Form)  में  OS  कहते  हैं । बहोत  से  लोग  OS  के  बारे  में  पूछते  हैं  की  ओ० एस०  क्या  होता  है (OS  kya hota hai) या  OS  का फुल फॉर्म  क्या  है (OS ka full form) इत्यादि ।  ऑपरेटिंग  सिस्टम  को  हिंदी  में   प्रचलन  तंत्र  भी  कहते  हैं।

कंप्यूटर  में  चलाये  जाने  वाले  सभी  प्रोग्रामों  और  कंप्यूटर  से  जुड़े  हार्डवेयर  डिवाइसों  के  कार्यों  को  ऑपरेटिंग  सिस्टम  द्वारा  ही  मैनेज  किया  जाता  है। 

ऑपरेटिंग सिस्टम के प्रकार (Types of Operating System) 

ऑपरेटिंग  सिस्टम  किसी  भी  कंप्यूटर  डिवाइस  को  कार्य  करने  योग्य  बनाने  में  मदद  करता  है । इस  लिए  अलग - अलग  कामों  को  करने  के  लिए  अलग - अलग  प्रकार  के ऑपरेटिंग सिस्टम  का  उपयोग  किया  जाता  है । कुछ  इसी  प्रकार  के  ऑपरेटिंग  सिस्टम  के  बारे  में  (operating system ke prakar) हम  आपको  बताने  जा  रहे  हैं  जो  इस  प्रकार  हैं - 

  1. बैच  ऑपरेटिंग  सिस्टम (Batch Operating System)
  2. मल्टी  प्रोग्रामिंग  ऑपरेटिंग  सिस्टम
  3. मल्टी  प्रोसेसिंग  ऑपरेटिंग  सिस्टम 
  4. रियल टाइम ऑपरेटिंग सिस्टम 
  5. नेटवर्क ऑपरेटिंग सिस्टम 
  6. टाइम शेयरिंग ऑपरेटिंग सिस्टम
  7. मल्टी  टास्किंग  ऑपरेटिंग सिस्टम  

(1) बैच ऑपरेटिंग सिस्टम (Batch Operating System):

 अब   हम  जानेंगे  की  बैच  ऑपरेटिंग  सिस्टम क्या  है (batch operating system kya hai) या  बैच ऑपरेटिंग  सिस्टम  किसे कहते  हैं (batch operating system kise  kahate hain) ।  पुराने  समय  के  कंप्यूटर  विशेष  करके  द्वितीय  पीढ़ी  के  कंप्यूटर  के  कार्य  करने  के  क्षमता  बहोत  ही  कम  होती  थी ।

उस समय  में  यूजर  को  अपने  किसी  कार्य  को  कंप्यूटर  में  क्रियान्वित  करने के  लिए  कार्य  को  छोटे - छोटे समूहों  में  बाँट  कर  अर्थात , बैच  के  रूप  में  पंचकार्ड  की  मदद से  कंप्यूटर  में  लगाना  होता  था। कंप्यूटर  उन  कार्यों  को  क्रमबद्ध  तरीके  से  एक - एक  करके  उसे  प्रोसेस  करता था।

इस  प्रकार  के  ऑपरेटिंग  सिस्टम  को , जिसमे   किसी  कार्य  को  बैच  के रूप  में  प्रोसेस  किया  जाता  है  उसे  बैच ऑपरेटिंग  सिस्टम (Batch Operating System) कहते  हैं ।   

(2) टाइम - शेअरिंग ऑपरेटिंग सिस्टम(Time - Sharing Operating System):

टाइम शेयरिंग ऑपरेटिंग सिस्टम क्या है ?(time sharing operating system kya hai)। जब  किसी  ऑपरेटिंग  सिस्टम  में  यूजर  द्वारा  उपयोग  किये  जाने वाले  संसाधनों  की  क्षमता  कम  होती  है , और  उसका  उपयोग करने  वाले  यूजर  की  संख्या  अधिक  होती  है  तो , वहाँ  टाइम शेयरिंग  ऑपरेटिंग सिस्टम  का  उपयोग किया  जाता  है ।

इस  प्रकार  के  सिस्टम  में  सभी  यूजर  का  एक  अकाउंट  उस  कंप्यूटर  में  बना  होता  है। प्रत्येक  यूजर  को  सिस्टम  के  संसाधनों  का  उपयोग  करने  के  लिए  एक  निश्चित समय  निर्धारित  होता  है ।  यूजर  को  उसी समय सीमा  के  अंदर  अपने  दिये  गए  कार्यों (Task)  को  पूरा  करना  होता है ।

एक  यूजर  को  दिया  गया  समय समाप्त  होने के  बाद  अगले  यूजर  के  लिए  उन संसाधनों  को  उपलब्ध  कराया  जाता  है  और  पहले  यूजर  के  लिए  उस  सिस्टम  का उपयोग  प्रतिबंधित  कर  दिया  जाता  है ।

(3) रियल टाइम ऑपरेटिंग सिस्टम (Real Time Operating System):

रियल  टाइम ऑपरेटिंग  सिस्टम  क्या  होता है (real time operating system kya hai) । रियल  टाइम  ऑपरेटिंग सिस्टम  को RTOS भी  कहते   हैं । इस  प्रकार  के  ऑपरेटिंग  सिस्टम  में  किसी  कार्य  को पूरा करने के  लिए  एक निश्चित  समय  सीमा  तय  की  जाती  है । उस  समय  सीमा  के  अन्दर  ही  उस  ऑपरेटिंग सिस्टम  को  अपना  कार्य  पूरा करना  होता है , अन्यथा दिया गया  कार्य  फेल  हो  जाता है ।

इस  प्रकार  के  ऑपरेटिंग  सिस्टम  के  काम करने की  गति  बेहद  तेज  होती है । ये किसी भी कार्य को करने  में  बेहद कम समय लगाते  हैं । इस  प्रकार  के ऑपरेटिंग सिस्टम  का उपयोग बेहद  खास  जगहों  पर  किया जाता है । क्यूंकि  इसकी  कीमत  बहोत  अधिक  होती  है ।

इस  प्रकार  के ऑपरेटिंग  सिस्टम वैज्ञानिकों  के  अन्तरिक्ष  मिशन और  ATM  मशीनों  जैसे  विशेष  स्थानों  पर  उपयोग  में लये  जाते  हैं ।  

ऑपरेटिंग  सिस्टम  का  इतिहास (History of Operating System)

ऑपरेटिंग  सिस्टम  को  समझने  के  साथ - साथ  हमे  ऑपरेटिंग  सिस्टम  के  इतिहास  (operating system ka itihaas) को  भी  जानना आवश्यक  होता  है , अब हम  ऑपरेटिंग सिस्टम  के  बारे  में (operating system ke bare mein)  और  भी  रोचक  जानकारी  आपको  देंगे।

जब  कंप्यूटर  का  निर्माण  हुआ  तब  कंप्यूटरों   में  ऑपरेटिंग  सिस्टम  नहीं  हुआ  करते  थे । कंप्यूटर  को  संचालित  करने  के  लिए  मशीन  कोड  का  उपयोग  कमांड  के  रूप  में  किया  जाता  था।  इन  मशीन कोड  को  कंप्यूटर  का  उपयोग  करने  के  लिए  याद  रखना  पड़ता  था ।

सबसे  पहला  ऑपरेटिंग  सिस्टम  जनरल  मोटर्स (General  Motors)  ने  सन  1956  में  सिंगल  IBM  Central  Computer  चलाने  के  लिए  बनाया  था।  सन 1960  के  दशक  के  अंत   में   यूनिक्स  ऑपरेटिंग  सिस्टम  (Unix  Operating  System)  का  पहला संस्करण (Version)  विकसित  किया  गया  था।

यूनिक्स  ऑपरेटिंग  सिस्टम  को   बेल  लैब  रिसर्च  सेंटर  में  विकसीत  किया  गया  था।  Unix Operating System  को  C  भाषा  में  लिखा  गया  था।

ऑपरेटिंग सिस्टम की विशेषताएँ 

किसी  भी  कंप्यूटर  और  मोबाइल  डिवाइस  को  चलाने   के  लिए   ऑपरेटिंग  सिस्टम   की  आवश्यकता  होती  है । बिना  किसी  ऑपरेटिंग  सिस्टम  के  हम  इन  डिवाइसों   का  उपयोग  नहीं   कर  सकते  हैं । कंप्यूटर  डिवाइस  में  ऑपरेटिंग  सिस्टम  के  कुछ  मुख्य  कार्य  इस  प्रकार  हैं ।

  1. मेमोरी  प्रबंधन (Memory Managment)
  2. डिवाइस प्रबंधन (Device Managment)
  3. फाइल  प्रबंधन (File Managment)
  4. प्रोसेस  प्रबंधन (Process Managment)
  5. सुरक्षा  प्रबंधन (Security Managment)  

ऑपरेटिंग सिस्टम के कार्य (Work of Operating System in Hindi)

आईये  अब  जानने  का  प्रयास करते  हैं  की  ऑपरेटिंग  सिस्टम  का कार्य  क्या  होता  है (operating system ke karya kya hain) या  (operating system work in hindi) इत्यदि  के  विषय में ।

ऑपरेटिंग  सिस्टम  कंप्यूटर  के  हार्डवेयर  , सॉफ्टवेयर  और  यूजर  के  बिच  एक  प्रबन्धन  तंत्र  की  तरह  कार्य  करता  है ।  अर्थात  ऑपरेटिंग  सिस्टम  यूजर  के निर्देशों  को  सॉफ्टवेयर  के  पास  तक  पहुँचता  है  , और  कंप्यूटर  में  सॉफ्टवेयर  के  निर्देशों  के  अनुसार  प्रोसेस  होने  के  बाद  प्राप्त  आउटपुट  को  कंप्यूटर  के  हार्डवेयर  तक  पहुँचाने  का  कार्य  करता  है। जिससे  की  यूजर  उस  आउटपुट  को  देख  या सुन  पाता  है । 

You can share this post!

Leave Comments



(0) Comment