Home.   >   Internet:   >   Html In Hindi

HTML क्या है ? , HTML In Hindi

html full form , what is html , html kya hai , html ka full form , html in hindi , what is html in hindi , एचटीएमएल  क्या है , एचटीएमएल का फुल फॉर्म  , html ka full form in hindi , html ka pura naam , history of html in hindi

दोस्तों , आज  के  इस  पोस्ट  के  माध्यम  से  हम  जानेंगे  की  html kya hai , html ka full form , what  is  html  in hindi और what is html , एचटीएमएल क्या  है , इत्यादि  के  विषय में।

आज  के  समय  में  जब  आप  इन्टरनेट  का  उपयोग  करके  जानकारी  को  प्राप्त  करने  के  लिए  किसी  वेबसाइट  को  अपने  मोबाइल  या  कंप्यूटर  में  ओपन  करते  हैं  या  किसी  सामान  की  ऑनलाइन  खरीददारी  के  लिए  किसी  शोपिंग  वेबसाइट  को  ओपेन  करते  हैं  तो  उन  वेबसाइटों  पेज  पर  ( जिसे  हम वेब पेज  भी  कहते  हैं )  प्रदर्शित  जानकरियां  जिन्हें  हम  देखते  हैं  वे  सभी  HTML  भाषा  में  लिखी  होती  हैं।

HTML Ka Full Form (एचटीएमएल  का  फुल फॉर्म)

 HTML  के  विषय  में  जानने  से  पहले  यह  जानना  आवश्यक  है  की  HTML  का  फुल  फॉर्म  क्या  है  (HTML full form)  क्या होता  है।

HTML  का  फुल फॉर्म   -   HyperText  Markup Language    

HTML  के  फुल  फॉर्म  Hypertext  Markup  Language  को  हिंदी  में  हाइपर  टेक्स्ट  मार्कअप  लैंग्वेज  पढ़ते  हैं।

What Is HTML In Hindi (एचटीएमएल क्या  है)   

जैसा  की  आपने  HTML  के  फुल  फॉर्म  में  देखा  की  HTML  का  पूरा  नाम (html  ka pura  naam)  - Hypertext  Markup Language  है। यहाँ  Hypertext  का  अर्थ  है  की  HTML  भाषा  का  उपयोग  करके  जो  सूचनाएँ  हमे  वेब  (इन्टरनेट )  से  प्राप्त  होती  है  , वे  हाइपर टेक्स्ट  के  रूप  में  होती  है।

हाइपरटेक्स्ट  भी  साधारण  टेक्स्ट  ही  होते  हैं , परन्तु  इसमें  टेक्स्ट  के  अंदर   टेक्स्ट  को  रखने  की  क्षमता  होने  के  कारण  इस  प्रकार  के  टेक्स्ट  को  हाइपर  टेक्स्ट  कहते  हैं। हाइपरटेक्स्ट  का  उपयोग  हाइपरलिंक  बनाने  के  लिए  किया  जाता  है। जिसे माउस  क्लिक  या  टेक्स्ट  पर  टैप (दबाने)  करने  या  किसी  की (Key)  को  दबाने से सक्रीय  किया  जा  सकता है ।

मार्कअप  लैंग्वेज  कंप्यूटर  की  भाषा   होती  है , जिसका  उपयोग  वेब  डॉक्यूमेंट  की  फार्मेटिंग  करने  के  लिए  किया  जाता  है , अर्थात  मार्कअप  लैंग्वेज  में  स्पेशल  टैग  का  उपयोग  किया  जाता  है , जो टेक्स्ट  डॉक्यूमेंट  को  वेब  पेज  पर  प्रदर्शित  होने  की  संरचना  का  निर्धारण  करता  है , अर्थात  इन टैग्स  के  माध्यम  से  सुनिश्चित  किया  जाता  है  किस  टेक्स्ट  को  किस फोर्मेट  में  प्रदर्शित  होना  है।

मार्कअप  लैंग्वेज  की  सहायता  से  html  में  CSS  और  JavaScript  को  जोड़ा  जाता  है  जिससे  टेक्स्ट  डॉक्यूमेंट  की फोर्मेटिंग  की  जाती  है। 

HTML  का  इतिहास (History  of HTML in Hindi) 

HTML  का  निर्माण  1991  में  ब्रिटिश  वैज्ञानिक  सर  टिम  बर्नर्स ली  द्वारा  विकसित  किया   गया  था। उस  समय  HTML  में  आज  की  तरह  बहोत  से  टैग  और  सुविधाएँ  नहीं  थे , उस  समय  HTML  के  माध्यम  से   केवल  शीर्षक  (Title) ,  पैराग्राफ  और  लिंक  का  उपयोग   करके   साधारण  सा  वेब  पेज  ही  बनाया  जा  सकता  था। 

समय   के  साथ - साथ  HTML  और  इन्टरनेट  की  उपयोगिता   बढती  गयी  और  html   के  अंदर  बहोत  से  सुधार  किये  गए  और  नयी  नयी  सुविधाएँ  जोडी  गयी ,  जिसके  परिणामस्वरुप  आज  हमारे   पास  html  के  पाँच  संस्करण  मौजूद  है । जिसमे   सबसे  नवीनतम  संस्करण  HTML 5  है । 

आईये  अब  हम  आपको  HTML   के  विभिन्न  संस्करणों   और  उनमे  किये  गए   बदलावों  के   विषय  में  आपको  बताते  हैं।

HTML 1.0

सर  टिम  बर्नर्स  ली  द्वारा  सर्वप्रथम   जिस  HTML  को  विकसित  किया  गया  उसे  HTML  का  प्रथम  संस्करण  अर्थात  HTML 1.0  कहा  जाता  है। जिसे  1991  में  बनाया  गया  था। 

HTML 2.0

HTML   के  निर्माण  के  बाद  IETF  (Internet Engineering Test Force)  द्वारा  HTML  के  अगले  संस्करण  को  एक  नया  नाम  HTML 2.0  दिया  गया । HTML  का  दूसरा  संस्करण  सन  1995  में  विकसित  किया  गया । इस  HTML संस्करण  के  अन्तर्गत  HTML  में  form  बनाने  और  file  अपलोड  करने  की  सुविधाएँ  जोड़ी  गयी ।

HTML 3.0

HTML का  तीसरा  संस्करण  W3C (World Wide Web Consortium)   द्वारा  1997  में  विकसित  किया  गया। इस  समय  तक  इन्टरनेट  और  HTML  लोगों  के  बिच  काफी  लोकप्रिय  हो  चूका  था। HTML 3.0  के  इस  संस्करण  में  प्रथम  संस्करण  और  दुसरे  संस्करण  की  तुलना  में  ज्यादा  सुविधाएँ  जोड़ी  गयी।

HTML 3.0  में  Blink  Tag  , Marquee  और  Mathematical Tags  का  भि  विकास  किया  गया।

HTML 4.0

HTML   का  चतुर्थ  संस्करण  सन  1997  के  अन्त  में  प्रकाशित  किया  गया  जिसे  HTML 4.0  कहते  हैं। इस  संस्करण  की  सबसे  प्रचलित  सुविधा  जो  HTML  में  जोड़ी  गयी  वह  थी  XML , जो  की  बेहद  लोकप्रिय रही।

HTML 5.0

HTML का  सबसे   नवीनतम  संस्करण  जो  की  वर्त्तमान  समय  में  उपयोग  किया  जाता  है  वह  है  HTML 5.0  जिसे  सन  2014  में  प्रकाशित  किया  गया । HTML  के  इस  संस्करण   में  बहोत  सी  नयी  सुविधाएँ  जोड़ी  गयी  जिसका  की  वर्तमान  समय  में  उपयोग  किया  जाता  है ।       

You can share this post!

Leave Comments



(0) Comment