Home.   >   Technology:   >   Software Kya Hai

What Is Software | सॉफ्टवेयर क्या है ?

software ,  what is software in hindi , सॉफ्टवेयर क्या है ? , software kya  hai ,  software ke  prakar , software kya hai in hindi , software and hardware in hindi , system software kya hai

दोस्तों , आज  के  आधुनिक  समय  में  टेक्नोलॉजी  का  विकास  बेहद  तेज  गति  से  हो  रहा  है , और  इस  विकास  में  कंप्यूटर  सॉफ्टवेयर ( Computer Software ) भी  अहम्  भूमिका  निभा  रहे  हैं । आप  ने  भी  किसी  कार्य  के  लिए  या  किसी  और  माध्यम  से  सॉफ्टवेयर  (Software)  का  नाम  तो  सुना  ही होगा , और अगर  आप  इसके विषय में  जानना  चाहते  हैं  तो , इस  पोस्ट  को  पूरा  अवश्य  पढ़ें। 

इस  पोस्ट  में  हम  आपको  बताएँगे  की  सॉफ्टवेयर (Software)  क्या  है , सॉफ्टवेयर किसे  कहते  हैं , सिस्टम  सॉफ्टवेयर  क्या  है  , सॉफ्टवेयर  कितने  प्रकार  के  होते  हैं  और  सॉफ्टवेयर  का  कार्य  क्या  है ।

सॉफ्टवेयर  क्या  है ?

दोस्तों  आप  ने  कंप्यूटर  का  नाम  तो  सुना  ही  होगा ,  कंप्यूटर  से  हम  अपनी  आवश्यकता  के  बहोत  से  कठिन  कार्य  बेहद  आसानी  से  कर  लेते  है , और  कंप्यूटर  से  किसी  कार्य  को  करने  में समय  भी  कम  लगता  है । 

परन्तु  क्या  आप  जानते  हैं  की  कंप्यूटर  से  हम  जो  भी  कार्य  करते  है  उस कार्य  को करने  के  लिए  कंप्यूटर  , सॉफ्टवेयर  का  उपयोग  करता  है ।  कंप्यूटर  में   किसी  कार्य   को  करने  के  लिए  उस  कार्य  से  सम्बंधित  सॉफ्टवेयर  होतें  हैं , अगर  कंप्यूटर  में  सॉफ्टवेयर  ना  हो  तो  हम  उसमे  कोई  कार्य  नहीं  कर  सकते  हैं ।

कंप्यूटर  की  तरह  ही  मोबाइल  और  टैबलेट  में  भी  किसी  कार्य  को  करने  के  लिए  सॉफ्टवेयर  का  ही  उपयोग  किया  जाता  है ,  जैसे  अभी  आप  सॉफ्टवेयर  के  विषय  में  जो  जानकारी  पढ़  रहें  है  ,  उसके  लिए  आपने  अपने  मोबाइल  या  कंप्यूटर  में  एक  सॉफ्टवेयर  का  ही  उपयोग  कर  रहे  हैं ,  इस  सॉफ्टवेयर  को  ब्राउज़र  कहते  हैं ।

इसी  प्रकार  यदि  आप  अपने  मोबाइल  या  कंप्यूटर  में  गाना ( Music )  सुनते  हैं  या  मूवी ( Movie ) देखते  हैं  ,  तो  उस  समय  आप  गाना  सुनने  के  लिए  किसी  म्यूजिक  प्लेयर (Music Player) और  मूवी  देखने  के  लिए  विडियो  प्लेयर (Video Player)  का  उपयोग  करते  हैं , इसी  प्रकार  से  हम  अलग - अलग  सॉफ्टवेयर  का  उपयोग  अपनी  जरुरत  के  अनुसार  कंप्यूटर  और  मोबाइल  में करते  हैं  ।

सॉफ्टवेयर  की  परिभाषा (Definition of Software)

किसी  विशेष  प्रोग्रामिंग लैंग्वेज (Programming Language)  , अर्थात  कंप्यूटर  के  समझने  योग्य  भाषा  में  लिखे  गए  निर्देशों  (Instruction) के  समूह  को  सॉफ्टवेयर  या  कंप्यूटर  सॉफ्टवेयर  कहा  जाता  है।

सॉफ्टवेयर  कैसे  काम  करता  है (Software Work In Hindi)

ऊपर  दी  गयी  परिभाषा  के  अनुसार  हमें  कंप्यूटर  पर  जो  भी  कार्य  करना  होता  है  ,  उस  कार्य  को  करने  के  लिए  कंप्यूटर  में  बहोत  से  निर्देश  लिखे  होते  हैं  ,  जो  की  कंप्यूटर  के  समझने  योग्य  भाषा  में  होते  हैं   जिसे  प्रोग्रामिंग लैंग्वेज  कहते  हैं  , इन्हीं  निर्देशों  को  पढ़  कर  कंप्यूटर  हमारे  कार्यों   को  सहजता  से  और  बेहद  कम  समय  में  ही  कर  पाता  है ,  निर्देशों  की  इस  समूह  को  ही   सॉफ्टवेयर   कहते  हैं ।

जैसे  की  अगर  हमें  कंप्यूटर या  मोबाइल   में  कैलकुलेटर   का  उपयोग  करना  होता  है  तो  हम  कैलकुलेटर  में  सिर्फ  उन  संख्याओं  को  लिख  देते  जिसके  बिच  हमे  कोई  गणना  करनी  होती  है  और  उस  कैलकुलेटर  को  ये बता  देते  हैं  की  हमे  उन  संख्याओं  के  बिच  कौन  सी  गणना  करनी  है , हमारा  कैलकुलेटर  उसका  रिजल्ट  हमे  तुरंत  दे  देता  है ,

क्योकि  हमारा  कैलकुलेटर  एक  सॉफ्टवेयर  है  जिसमें  गणितिय  गणनाओं  को  करने  के  बहोत  से  निर्देश  लिखे  होते  है  जिनका  उपयोग  करके  कैलकुलेटर  बड़ी  से  बड़ी  गणना (calculation)  को  बहोत  ही  शीघ्रता  से  कर  पता  है ।  सॉफ्टवेयर  के  द्वारा  की  गयी  गणना  में  किसी  प्रकार  के  त्रुटी  नहीं  होती  है 

सॉफ्टवेयर  के  प्रकार (Types  Of  Software)

उपयोग  के  आधार  पे  सॉफ्टवेयर  तीन प्रकार  के  होते  हैं -

1. सिस्टम  सॉफ्टवेयर (System Software)

2. एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर (Application Software)

3. यूटिलिटी सॉफ्टवेयर (Utility Software)

सिस्टम सॉफ्टवेयर (System Software Kya Hai)

सिस्टम  सॉफ्टवेयर  (System Software)  कंप्यूटर या मोबाइल  के  प्रमुख  सॉफ्टवेयर  होते  हैं , जो  की कंप्यूटर / मोबाइल  को चालू (On)  करते  ही  काम  करना शुरू कर  देते हैं , सिस्टम  सॉफ्टवेयर  कंप्यूटर  में  आन्तरिक रूप  से (Background में )  कार्य करते  रहते  हैं  और  कंप्यूटर  के  एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर  और  हार्डवेयर  को काम  करने  में  मदद  करते  हैं ।  सिस्टम  सॉफ्टवेयर  को  यूजर  द्वारा  अनइनस्टॉल  नहीं  किया  जा  सकता है ।

सिस्टम सॉफ्टवेयर के  बिना  कंप्यूटर  में  किसी  अन्य  एप्लीकेशन  सॉफ्टवेयर  , यूटिलिटी  सॉफ्टवेयर  या  हार्डवेयर  का  उपयोग  नहीं किया जा  सकता  है  । कुछ सिस्टम  सॉफ्टवेयर  के नाम इस प्रकार हैं -

  • आपरेटिंग  सिस्टम  सॉफ्टवेयर (Operating System Software)
  • डिवाइस  ड्राईवर  सॉफ्टवेयर (Device Driver Software)

 

एप्लीकेशन  सॉफ्टवेयर (Application Software) 

एप्लीकेशन  सॉफ्टवेयर (Application Software)  ऐसे  सॉफ्टवेयर  होते  हैं  जिनका  उपयोग यूजर  अपनी  आवश्यकता  के  अनुसार  करता  है , एप्लीकेशन  सॉफ्टवेयर  को  यूजर  कभी  भी  कंप्यूटर  में  इनस्टॉल  या  अनइनस्टॉल  कर  सकता  है । कुछ  एप्लीकेशन  सॉफ्टवेयर  के  नाम इस  प्रकार  हैं -

 

यूटिलिटी सॉफ्टवेयर (Utility Software) 

यूटिलिटी सॉफ्टवेयर  ऐसे  सॉफ्टवेयर होते हैं ,  जो  सिस्टम  सॉफ्टवेयर  और  एप्लीकेशन  सॉफ्टवेयर  के  साथ - साथ  कंप्यूटर  के  हार्डवेयर  और  यूजर  के  डाटा  के  सुरक्षित (Safe) और  व्यवस्थित (Organize)  रखने  में  उपयोग  किया  जाता  है । कुछ  यूटिलिटी  सॉफ्टवेयर  के  नाम  इस  प्रकार  हैं -

  • एन्टीवायरस  सॉफ्टवेयर (Antivirus Software)
  • बैकअप सॉफ्टवेयर (Backup Software)
  • फाइल मैनेजर सॉफ्टवेयर (File Manager) 

 

सॉफ्टवेयर  का  इतिहास(History Of Software)  

चार्ल्स  बैबेज (Charles Babbage)  के  एनालिटिकल इंजन (Analytical Engine )  में  बरनौली  नंबर  की  गणना  करने  के  लिए  ऐडा  लोवलेश (Ada Lovelace)  ने  19 वीं  शताब्दी  में   पहला   कंप्यूटर  सॉफ्टवेयर  प्रोग्राम  लिखा था । ऐडा लोवालेश  को  प्रथम  कंप्यूटर  प्रोग्रामर भी  माना  जाता है ।

You can share this post!

Leave Comments



(0) Comment