Home.   >   Technology:   >   Ai Kya Hai

AI क्या है , AI Kya Hai , AI Full Form

ai full form , ai kya hai , what is ai in hindi , artificial intelligence in hindi , आर्टिफीसियल इंटेलीजेंस क्या है , ai क्या है , ai ka full form , ai kya hota hai , ai kya hai in hindi , ai in hindi , what is ai in computer , ai kaise kam karta hai , artificial intelligence kya hai , ai kya hota hai , आर्टिफीसियल इंटेलीजेंस के फायदे और नुकसान , what is artificial intelligence in hindi

दोस्तों , आज  का  हमारा  यह  ब्लॉग  पोस्ट  AI  के  विषय  में  जानकारी  प्रदान  करने  के  लिए  है। आज  इस  पोस्ट  के  माध्यम  से  हम  जानेंगे  की  ai क्या है (ai kya hai) , एआई  का  फुल फॉर्म (ai ka full form)  और  artificial intelligence kya hai  इत्यादि के  विषय  में।

दोस्तों  , जैसा  की  आप  सभी  जानते  हैं , की  दुनिया  भर  में  इन्टरनेट  और  कंप्यूटर  की  टेक्नोलॉजी  ने  कितना  विकास   कर  लिया  है। इसी  का  एक  उदाहरण  है - AI  जिसे   दुनिया  भर  के  लोग  भविष्य  की  सबसे  महत्वपूर्ण  टेक्नोलॉजी  भी  मानती  है। बहोत  से  विद्वानों  का  मानना  है  की  भविष्य  में  ai  टेक्नोलॉजी  का  मानव  विकास  में  महत्वपूर्ण  योगदान  होगा।

एआई का फुल फॉर्म (AI Ka Full Form)

दोस्तों , AI  के  विषय  में  जानने  से  पहले  हमें  ये  जानना  आवश्यक  है ,  की  AI  जो   की  संक्षिप्त  शब्द   है ,  इसका  फुल  फॉर्म  अर्थात  AI ka full form  क्या  है - 

AI  Full  Form  -  Artificial Intelligence

एआई  का  फुल  फॉर्म  -  आर्टिफीसियल इंटेलीजेंस 

अर्थात  AI  का  फुल फॉर्म  आर्टिफीसियल  इंटेलीजेंस  (Artificial Intelligence)  होता  है। जिसका  हिंदी  अर्थ  कृत्रिम  बुद्धिमता  है।

एआई क्या है (AI In Hindi)

दोस्तों , AI  आज  के  समय  में  बेहद  प्रचलित  तकनीक  है। जिसका  उपयोग  कंप्यूटर  और  मोबाइल  के  माध्यम  से  किया  जा रहा  है। बहोत  से  लोगों  के  मन  में  ये  सवाल  रहता  है , की  एआई क्या है (Ai kya hai या  Ai in hindi)  इत्यादि।

दोस्तों , जैसा  की  AI  के  फुल फॉर्म  से  पता  चलता  है , की  AI  अर्थात , Artificial Inatelligence जिसका  हिंदी  अर्थ है , कृत्रिम  बुद्धिमता। इससे  यह स्पष्ट  होता  है  की  आर्टिफीसियल  इंटेलीजेंस  (AI)  मानव द्वारा  कंप्यूटर  प्रोग्रामों  की  मदद  से  बनायीं  गयी  एक  ऐसी  तकनीक  है ,  जो  मानव  दिमाग  की  तरह  ही  काम  करने  में  सक्षम  है।

AI  को  बनाने  के  पीछे  वैज्ञानिकों  का  उददेश्य  है ,  की  वे  AI  को  एक  ऐसे  कंप्यूटर  प्रोग्राम  के  रूप  में  विकसित  करें।  जो  इंसानों  की  तरह  ही  सोचने  और  समझने  में  सक्षम  और  स्वतः  की  नयी  - नयी  जानकारियों  को  सिखा  सके।

अब  तक  की  तकनिकी  विकास  में  ai  को  कुछ  हद  इसमे   सफलता  भी  मिली  है। वर्तमान   समय  में  Chat GPT , Google Gemini , Google  Assistant  , Amazon Alexa इत्यादि  AI  के  ही  उदाहरण  हैं। अभी  भी  वैज्ञानिक  AI  को  और  उपयोगी  बनाने  के  लिए  AI  पे  आधारित  रोबोट  बनाने  में  प्रयासरत  हैं।

आर्टिफीसियल इंटेलीजेंस के प्रकार (Types of Artificial Intelligence In Hindi)

आर्टिफीसियल  इंटेलीजेंस  के  प्रकार  निम्नलिखित  है -

  1. पुर्णतः प्रतिक्रियात्मक (Purely Reactive)
  2. सिमित स्मृति (Limited Memory)
  3. मस्तिष्क सिद्धांत (Brain Theory)
  4. आत्मचेतन (Self Conscious)

ये  सभी  आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस  अर्थात  AI  के प्रकार है।

एआई (आर्टिफीसियल इंटेलीजेंस) का  इतिहास (History of AI - Artificial Intelligence)

 AI  अर्थात  आर्टिफीसियल इंटेलीजेंस  का  इतिहास  बेहद  विस्तृत  है  और  लम्बी  अवधि  का  है।  अर्थात  AI  का   विकास  धीरे - धीरे  कई  चरणों  में  अलग - अलग  वैज्ञानिकों  के  योगदान  से  हो सका है।

एलन ट्यूरिंग (1950)

वर्ष  1950  में  सर्वप्रथम  एलन  ट्यूरिंग ने   गणना   सिद्दांत  के  आधार  पे  यह  सुझाव  दिया  की  गणना  के  किसी  भी  रूप  को  डिजिटल  रूप  में  बदला   जा  सकता  है।  इस  आधार  पे  उन्होंने  इलेक्ट्रिक मष्तिष्क  के  निर्माण  की  संभावना   को  व्यक्त  किया  था।

जान मैकार्थी (1956)

जान  मकार्थी  एक  अमेरिकी  कंप्यूटर  वैज्ञानिक  थे। जान  मकार्थी  ने  1950  में  लिस्प  प्रोग्रामिंग  भाषा  का  आविष्कार  किया  था। जान  मैकार्थी  ने  ही  वर्ष  1955  में  कृत्रिम  बुद्धिमता (Artificial Intelligence)  शब्द  को  प्रस्तुत  किया।  और  1956  में  आर्टिफीसियल  इंटेलीजेंस  पर  डार्ट माउथ समर  रिसर्च  प्रोजेक्ट  का  आयोजन  किया।  इस  वजह  से  जान  मैकार्थी  को  AI  का  जनक माना  जाता  है।

आर्टिफीसियल इंटेलीजेंस (AI) कैसे  काम  करता है

AI  लोगों  को  उनके  आवश्यकता  के  अनुसार  सही  और  स्पष्ट  जानकारियों  को  तीव्र  गति  से  प्रदर्शित  कर  सके  इसके  लिए  आर्टिफीसियल  इंटेलीजेंस  को  अलग  अलग  चरणों  में  तैयार  किया  जाता  है। आइये  अब  हम  जानते  हैं की  AI  कैसे  काम  करता  है -

(1) डाटा संग्रहण (Data Collection)

AI  को  काम  करने  के  लिए  इसे  बहोत  से  डाटा   की  आवशयकता  होती  है।  ये  डाटा  पहले  ai  मेमोरी  में  संगृहीत किया  जाता  है। जहाँ   सभी  प्रकार  के  डाटा  एक  साथ  स्टोर  रहते  है  और  AI सिस्टम  उसमे  से  अपनी  आवश्यकता  के  अनुसार  डाटा  का  चुनाव  स्वतः  ही  का  लेता  है।

(2) डाटा प्रोसेसिंग (Data Processing)

AI  मेमोरी  में  सभी  प्रकार  के  डाटा  स्टोर  रहते  है। यूजर  को  रिजल्ट  प्रदर्शित  करने  के  लिए  सबसे  पहले   इन  सभी  डाटा  को  अलग  - अलग  केटेगरी  में  फ़िल्टर  कर  के  स्टोर  किया  जाता  है। जिससे  की  AI  सिस्टम  को  डाटा  सेलेक्ट  करने  में  गति  प्राप्त  होती  है।

(3) परिणाम (Result)

AI  मेमोरी  में  स्थित  डाटा  को  यूजर  के  सामने  प्रदर्शित  करने  से  पहले  या  किसी  कार्य  को  करने  से  पहले  AI  मेमोरी  में  लिखे  गए  अल्गोरिदम  का  उपयोग  करता  है। इन  एल्गोरिदम  और  यूजर  के  दिशा  निर्देशों  के  आधार पे  विश्लेषण  करने  के  बाद  ही AI  परिणाम  प्रदर्शित  करता  है  या  किसी  कार्य  को  करता  है।  

You can share this post!

Leave Comments



(0) Comment