Home.   >   Education:   >   Visheshan Ki Paribhasha

विशेषण किसे कहते हैं (Visheshan Kise Kahate Hain) , विशेषण के भेद

visheshan ke bhed , visheshan ki paribhasha , visheshan kise kahate hain , विशेषण किसे कहते हैं , visheshan in hindi , visheshan kise kehte hain , visheshan ke kitne bhed hote hain , विशेषण के भेद , विशेषण की परिभाषा , visheshan ke prakar , visheshan kitne prakar ke hote hain , visheshan ke udaharan , pariman vachak visheshan , gunvachak visheshan , विशेषण शब्द के उदाहरण , विशेषण के प्रकार , विशेषण के कितने भेद होते हैं , sankhyavachak visheshan , visheshan kya hote hain , visheshan kya hai , सर्वनामिक विशेषण , gunvachak visheshan ke udaharan , visheshan ke kitne bhed hain , विशेषण की परिभाषा और भेद ,

दोस्तों , आज  इस  ब्लॉग  में  हम  जानेंगे  की  विशेषण किसे कहते हैं (visheshan kise kahate hain) , विशेषण की परिभाषा (visheshan ki paribhasha) एवं  विशेषण के भेद (visheshan ke bhed) क्या होते हैं।

विशेषण , शब्द  का  अर्थ  है  विशेषता  बताने  वाला , अर्थात  विशेषण  का  उपयोग  किसी  की  विशेषता  बताने  के  लिए  किया  जाता  है , हिंदी  भाषा  में   विशेषण  का  स्थान बेहद महत्वपूर्ण  है।

विशेषण  ऐसे  शब्द  होते  हैं  ,  जो  किसी  वाक्य  में  व्यक्ति ,  वस्तु  अथवा  स्थान  की  विशेषता  को  बताते  हैं। जैसे -

  • रमेश  अच्छा  लड़का  है।
  • सेव  मीठे  होते  हैं।  

 

जैसा  की  ऊपर  दिये  उदाहरण  से  स्पष्ट  हो रहा  है  की  पहले  वाक्य  में  अच्छा   शब्द  व्यक्ति  की  विशेषता  को  अर्थात  रमेश  की  विशेषता  को  प्रकट  कर  रहा  है , तथा दुसरे  वाक्य  में  मीठा  शब्द  सेव  की  विशेषता  को  बता  रहा  है  , अर्थात  ये  दोनों  शब्द ( अच्छा , मीठा)  विशेषण  शब्द  है।

विशेषण की परिभाषा (Visheshan Ki Paribhasha)

संज्ञा  अथवा  सर्वनाम  की  विशेषता  बताने  वाले  शब्दों  को  विशेषण  कहते  हैं।     

अर्थात  ,  किसी  वाक्य  में  प्रयोग  होने  वाले  ऐसे  शब्द  जिनसे  उस  वाक्य  के  संज्ञा  अथवा  सर्वनाम  की  विशेषता (गुण , दोष , परिमाण इत्यादि) प्रकट  होती  है ,  उन  शब्दों  को  विशेषण  कहते  हैं।  जैसे - 

  • राजू  इमानदार  है।   

 

विशेषण के उदाहरण (Visheshan Ke Udaharan)

विशेषण  क्या  है (vishseshan kya hai) अथवा  विशेषण क्या होते हैं (visheshan kya hote hain) इसे  अच्छे  से  समझने  के लिए  हम  आपको  ऐसे  वाक्यों  का  उदाहरण  दे रहे  हैं  ,  जिनमें  विशेषण  शब्द  संज्ञा  अथवा  सर्वनाम  की  विशेषता  को  प्रकट  कर  रहे हैं।

  1. अजय  समझदार  है।
  2. रोहन देशभक्त है।
  3. वह चतुर लड़का है।
  4. सुनीता सुन्दर लड़की है।
  5. वहाँ  दो  लड़के बैठे हैं।
  6. राजीव 20 वर्ष का है।
  7. आम मीठे हैं।
  8. कौआ काला होता है।
  9. आसमान नीला है।
  10. वह दयालु है। 

उपरोक्त  उदहारण  में  दिये  गए  वाक्यों  में  रेखांकित  शब्द  विशेषण  हैं।

विशेषण के भेद (Visheshan Ke Bhed)

विशेषण  को  और  विस्तार  से  समझाने  के  लिए तथा  इसके  विषय  में और आधिक  जानकारी  प्राप्त  करने के  लिए  लोगों  का  ये  सवाल  रहता  है  की  विशेषण  के  कितने  भेद  होते  हैं (visheshan ke kitne bhed hote hain) अथवा विशेषण के प्रकार (visheshan kitne prakar ke hote hain)।

विशेषण  के  चार  भेद  होते  हैं -

  1. गुणवाचक विशेषण (Gunvachak Visheshan)
  2. परिमाण वाचक विशेषण (Parimanvachak Visheshan)
  3. संख्यावाचक विशेषण (Sankhyavachak Visheshan)
  4. सर्वनामिक विशेषण (Sarvanamik Visheshan) 

 

गुणवाचक विशेषण(Gunvachak Visheshan)

ऐसे  विशेषण  शब्द  जो  किसी  संज्ञा  अथवा  सर्वनाम  के  गुण  , दोष  , रंग  इत्यादि  के  विषय  में  बताते  हैं , उन्हें  गुणवाचक  विशेषण कहते  हैं। आइये गुणवाचक विशेषण के उदाहरण (gunvachak visheshan ke udaharan) को देखते  हैं। जैसे -

  • फुल सुन्दर होते हैं।
  • कोयल काली होती है। 
  • वह अच्छा गाती है।   

 

परिमाणवाचक विशेषण (Parimanvachak Visheshan)

ऐसे  विशेषण  शब्द  जिनसे  किसी  संज्ञा  या  सर्वनाम  की  मात्रा  या  नाप - तौल  का  पता  चलता  है , उन्हें  परिमाण वाचक  विशेषण  कहते  हैं। जैसे -

  • आलू  दस  किलो  है।
  • दूध  दो  लीटर  है।
  • रस्सी  20  मीटर  की  है।
  • यह  थोडा  सा  पानी  है।
  • वह  ज्यादा  लम्बा  है। 

 

परिमाणवाचक विशेषण के भेद (Parimanvachak Visheshan Ke Bhed)

परिमाणवाचक  विशेषण  के  दो  भेद  होते  हैं -

  1. निश्चित परिमाणवाचक विशेषण (Nishchit Parimanvachak Visheshan)
  2. अनिश्चित परिमाणवाचक विशेषण (Anishchit Parimanvachak Visheshan)     

 

(1) निश्चित परिमाणवाचक विशेषण (Nishchit Parimanvachak Visheshan)

ऐसे  परिमाण  वाचक  विशेषण  जिनसे  किसी  संज्ञा  या  सर्वनाम  के  निश्चित  परिमाण  अर्थात  निश्चित  मात्रा  या  नाप - तौल  का  पता  चलता  है , उसे  निश्चित  परिमाण वाचक  विशेषण  कहते  हैं। जैसे -

  • यह  दो  लीटर  है।
  • सब्जी  पाँच  किलो  है। 

 

(2) अनिश्चित परिमाणवाचक विशेषण (Anishchit Parimanvachak Visheshan)

ऐसे  परिमाणवाचक विशेषण  जिनसे  किसी  संज्ञा  या  सर्वनाम  के  निश्चित  मात्रा  या  नाप - तौल  का  पता  नहीं  चलता  है , उन्हें  अनिश्चित  परिमाण वाचक  विशेषण  कहते  हैं। जैसे - 

  • यह  कुछ  सेव  हैं।
  • जंगल  बहोत  बड़ा  है।  

 

संख्यावाचक विशेषण (Sankhyavachak Visheshan)

ऐसे  विशेषण  शब्द  जिनसे  किसी  संज्ञा  या  सर्वनाम  के  संख्या  का  पता  चलता है , उन  विशेषण  शब्दों  को  संख्यावाचक  विशेषण कहते  हैं। जैसे - 

  • कक्षा  में  30  विद्यार्थी  उपस्थित  हैं।
  • दोनों  दोस्त  बहोत  इमानदार  हैं।      

 

संख्यावाचक विशेषण के भेद (Sankhyavachak Visheshan Ke Bhed)

संख्यावाचक विशेषण  के दो भेद  होते  हैं -

  1. निश्चित संख्यावाचक विशेषण (Nishchit Sankhyavachak Visheshan)
  2. अनिश्चित संख्यावाचक विशेषण (Anishchit Sankhyavachak Visheshan)  

 

(1) निश्चित संख्यावाचक विशेषण (Nishchit Sankhyavachak Visheshan)

जिन  संख्यावाचक  विशेषण  शब्दों  से  किसी  वाक्य  में  संज्ञा  या  सर्वनाम  के  निश्चित  संख्या  का  पता  चलता  है , उन्हें  निश्चित संख्यावाचक विशेषण  कहते  हैं। जैसे - 

  • यह 10 फल हैं।
  • कक्षा में 20 विद्यार्थी हैं।   

 

(2) अनिश्चित संख्यावाचक विशेषण (Anishchit Sankhyavachak Visheshan)

जिन  संख्यावाचक  विशेषण  शब्दों  से  संज्ञा  या  सर्वनाम  के  निश्चित  संख्या  का  पता  नहीं  चलता  है , उन  विशेषण  शब्दों  को  अनिश्चित  संख्यावाचक  विशेषण  कहते  हैं। जैसे - 

  • कुछ मित्र दिल्ली में हैं।
  • वे सभी लोग इमानदार हैं।   

 

सर्वनामिक विशेषण (Sarvanamik Visheshan)

ऐसे  सर्वनाम  शब्द  जो  संज्ञा  शब्द  से  पहले  आते  हैं , और  किसी  विशेषण  शब्द  की  तरह  संज्ञा  की  विशेषता  बताते  हैं उन्हें  सर्वनामिक  विशेषण  कहते  हैं। जैसे -

  • मेरा  विद्यालय।
  • यह किसी का घर है।
  • वह  लड़का  है। 

You can share this post!

Leave Comments



(0) Comment